गुरु गोचर फल -२०१९ (Guru gochar fal-2019)

0
76

Guru transit Prediction -2019. 12 राशी का भविष्यफल – 12 zodiac sign

Date:- 11 / 08 / 2019 To Date:-05 / 11/ 2019

गुरु  गोचर फल -२०१९ (Guru gochar fal-2019) -Guru transit Prediction -2019

12 राशी का भविष्यफल – 12 zodiac sign

Date:- 11 / 08 / 2019 to  05 / 11/ 2019

गुरुग्रह Date:- 11 / 08 / 2019 के दीन समय 19: 08 क.मि को वृश्चिक राशि को प्रवेश करेगा और 05 / 11/ 2019 के दीन, समय 5: 24 क.मि गुरु धनु राशि में प्रवेश करेंगा। बृहस्पति की कक्षा Date:- 11 / 8 / 2019 के दिन , रविवार को श्रावण सुदी ग्यारह के दिन , गुरु मार्गी होता है। वृश्चिक राशि में मार्गी होगा।

29 मार्च 2019 को गुरु ने धन राशि में प्रवेश किया। 10 अप्रैल 2019 से वक्री अवस्था थी। वक्री होने के कारण वृश्चिक राशि में वापस गया था और 11 अगस्त 2019 को बृहस्पति वृश्चिक राशि के लिए मार्गी था। किसी भी ग्रह वक्री हो जाने पर वह पीछे होता है। मार्गी होने पर आगे चलता है। बृहस्पति का प्रभाव बारह राशि चक्र पर उसका असर देखा जाता है।बृहस्पति 3, 5 और 8 पर अपनी दृष्टि निर्धारित करता है। बृहस्पति की पांचवीं दृष्टि अपनी राशि में है। सातवीं दृष्टि वृषभ में भी है। नवम दृष्टि कर्क राशि में स्थित सूर्य, बुध, शुक्र तीनों ग्रहों को देखती है।मूल दृष्टिकोण से, रविवार को मूल नक्षत्र राशि के स्वामी बृहस्पति के मार्ग को अच्छा माना जाता है।यह दिन एक बड़ी उपलब्धि बन रहा है। ऐसे अच्छे योग में गुरु का मार्गी शुभ होता है। इसका सकारात्मक परिणाम भी है। व्यापार फलफूल रहा है, सोने और चांदी में तेजी आ सकती है।

मेष राशि

मेष (अ, ल, इ) : गुरु मेष राशि के जातको को क्या फल अर्जित करेगा ।

मेष राशि का स्वामी मंगल है। बृहस्पति आठवें स्थान से होकर गोचर में भ्रमण करता है। बृहस्पति वृश्चिक में बृहस्पति के घर में है।

यह गुरु कुल मिलाकर अच्छा परिणाम नहीं दे रहा है। वित्तीय समस्याएँ होगी। व्यापार में वृद्धि के योग रुकते हैं। इस दौरान नया व्यापार करना उचित नहीं है।स्वास्थ्य के मद्देनजर सावधानी बरतना आवश्यक है। अचानक स्वास्थ्य बिगड़ता है जिन दोस्तों के अपने दोस्त हैं, उनके दोस्तों के साथ भी झगड़ा हो सकता है। जो नहीं होता है यह ग्रह को ध्यान रखने की सलाह देता है।यात्रा के योग बन रहे हैं। भारत की बड़ी और छोटी यात्रा हो सकती है। विदेश यात्रा के भी योग बनते हैं। पत्नी और पुत्र को पीड़ा हो सकती है। इस दौरान तनाव रहेगा। लेकिन जैसे आपके लिए नये काम की शुरूआत होगी इस प्रकार के योग बन रहे है।

वृषभ राशि

वृषभ (ब, व, उ) : वृषभ राशि के जातको के लिए यह गुरु ग्रह सुख और समृद्धि लेकर आ रहा है।

इस जातको को व्यवसाय में एक बड़ा लाभ होगा और दूसरे के साथ व्यापार करने से आपको लाभ मिल सकता है।

खासकर उन लोगों के लिए जो सब्जियाँ, अनाज आदि के साथ व्यापार करते हैं, होटल सबंधित जिसका कार्य है उनको भी अच्छे लाभ मिलेंगे। साथ ही सोना, चांदी, तांबा, लोहा, यह व्यवसायियों के लिए भी अच्छा है। निर्यात-आयात करने वाले व्यापारियों को व्यापार-वाणिज्य में एक अच्छा सौदा मिलेगा, मित्रो का सहयोग मिलेगा। दोस्तों से भी मदद मिलेगी। यदि आपकी भागीदारी में कोई व्यवसाय है, तो अच्छे लाभ होंगे। अपनी स्त्री का सुख अच्छा रहेगा। यहाँ तक कि अपनी पत्नी भी भाग्यशाली है, स्वास्थ्य अच्छा रहेंगा, मन उत्साही होगा। बृहस्पति ग्रह संपूर्ण वृषभ राशि के लिए, एक अच्छा फल देने वाला है।

मिथुन राशि

मिथुन (क, छ, घ) : मिथुनराशि के जातको के लिए गुरु ग्रह गोचर में छठे स्थान से भ्रमण कर रहा है। जातको को क्या फल अर्जित करेगा ।

तो आज हम मिथुन राशि के अनुसार गुरु का क्या फल है वह हम विस्तार से देखेंगे, इस दौरान नौकरी के योग बनते हैं। नौकरी करने की इच्छा वालों को नौकरी ज़रूर मिलेगी। प्रमोशन चाहने वालों को प्रमोशन मिलता है, नौकर वर्ग के लिए बृहस्पति एक अच्छा परिणाम है।लेकिन बिना कारण की चिंता सताएगी। दुश्मन को आगे नहीं बढ़ने देंगे, अपने दुश्मनों से सौम्य तरीके से बात करना सबसे बड़ा हथियार है। धन खर्च होगा, धार्मिक खर्च आमतौर पर देखा जाता है, अगर मामला अदालत में जाता है, तो यह भी खर्च होता है।बीमारी का स्थान होने के साथ-साथ दवा पर भी खर्च होता है। लेकिन Astro Gujarati उपाय बताता है कि इन सब से बचने के लिए गुरुवार को केले के पेड़ का तना की सिंचाई करें स्नान के समय पानी में थोड़ी-सी हल्दी मिलाकर स्नान करें। हर गुरुवार को एक पीला रूमाल अपने साथ रखे।

कर्क राशि

कर्क (ड, ह) : गुरु कर्क राशि के जातको को क्या फल अर्जित करेगा ।

यह गुरु आपके लिए सर्वश्रेष्ठ है, साथ ही शिक्षण भी देता है।

यह योग उन के लिए भी है। जो बच्चे चाहते हैं। संतान से बड़ा कोई सुख नहीं है इसमें भी पुत्र प्राप्ति के योग बनते हैं।

विद्यार्थियों के अध्ययन के लिए यह बहुत अच्छा समय है। नए विचार दे रहे हैं। साथ ही किसी भी प्रतियोगिता में आप भाग लेते हैं, तो उसमें भी आप सफल होंगे। लेकिन एक बात ध्यान रखने की है कि किसी भी परिश्रम के बिना किसी भी क्षेत्र में कुछ भी प्राप्त नहीं होता है, जिस सुख की इच्छा होती है, वह प्राप्त होता है।भौतिक सुख की भी प्राप्ति होती है। शादी विदेश से रिश्तेदार के साथ भी हो सकती है। भागीदारीमे भी आप एक नया व्यवसाय शुरू कर सकते हो।इस समय में ऋषिकुमार के लिए, मंत्र का ज्ञान भी प्राप्त हो सकता है और गुरु जो मंत्र पढ़ाते है ये वेद मंत्र भी आपके लिए पुरस्कार समान होगा।

सिंह राशि

सिंह (म, ट) : सिंह राशि के लिए बृहस्पति चौथे स्थान से गोचर में भ्रमण कर रहा है। जातको को क्या फल अर्जित करेगा ।

इस जातको को ज्यादातर सुख की प्राप्ति होगी।

स्री से लाभ होगा और आपकी पत्नी आपके कार्य क्षेत्र का मैनेजमेंट भी करेगी मित्र वर्ग से अच्छा लाभ मिलेंगा और मित्रो से सहकार भी मिलेंगा, जीवन में इस समय एक अच्छा प्रसंग भी आपके लिए आएगा और वह प्रसंग आपके लिए बहोत महत्त्व पूर्ण होगा।पुत्र के सुख की प्राप्ति होगी उच्च अधिकारी वर्ग के लिए राज्य सरकार से या केन्द्र सरकार की तरफ से आदर सम्मान और पारितोषिक भी मिल सकता है व्यापार मैं धन का लाभ होगा और इष्ट जनोसे और मित्रो का सुख प्राप्त होगा।नौकरी के लिए अच्छे योग बन रहे है। आपको अवश्य नौकरी मिलेंगी यदि आपके पास इस समय के दौरान कोई नया काम करना है तो, ये समय आपके लिए अच्छा है।जमीन से लाभ होगा, नया वाहन आएगा और शिक्षा भी आपको प्राप्त होगी। हर तरह से बृहस्पति आपको एक सकारात्मक ऊर्जा दे रहा है।

कन्या राशि

कन्या (प, ठ, ण) : बृहस्पति कन्या राशि के लिए तीसरे स्थान से गोचर में भ्रमण कर रहा है। जातको को क्या फल अर्जित करेगा ।

राशि चक्र के जातको के लिए, बृहस्पति इस समय के दौरान राशि चक्र में भ्रमण करेगा।

इस बीच आपको आकस्मिक लाभ के योग बन रहे हैं। व्यवसाय के साथ-साथ कार्यक्षेत्र में भी अच्छा लाभ होगा।दोस्तों और भाइयों के साथ मौज-मस्ती करेंगे। लेकिन तीसरा स्थान श्रमसाध्य है। इसलिए कड़ी मेहनत करनी होगी। साथ ही, यदि कोई प्रश्न भाई या बहन के साथ हल नहीं होता है, तो उसे सुझाव की भी ज़रूरत है।आपके लिए सलाह है कि स्थिति को समझें और कार्यवाही करें। स्त्री का सुख प्राप्त होता है। दाम्पत्य जीवन आपका अच्छा है। पति-पत्नी के बीच किसी छोटी बात को लेकर मन में तब्दीली हो तो दूर हो जाएंगी।भारत की बड़ी यात्रा के लिए योग बनें। कुल मिलाकर बृहस्पति एक अच्छा फल देने वाला है।

तुला राशि

तुला (र, त) : तुला राशि के जातकों के लिए बृहस्पति एक स्थान से दूसरे स्थान पर जाता है। तो जातको को क्या फल अर्जित करेगा ।

यह गुरु ही है जो आपको समृद्ध सुख देता है।

बैंक बैलेंस बनाता है। आप अपने पैसे का निवेश कर सकते हैं। आपको राजकीय सुख भी मिलेगा। परिवार का सुख अच्छा देखा जाता है।कर्म के क्षेत्र में लाभ देखा जाता है। धन से सुख की प्राप्ति होगी। मुनाफा भी होगा।स्वास्थ्य के दृष्टिकोण से, पुराने रोग भी धीरे–धीरे कम होते दिखाय देंगे और अगर कुंडली का बल विशेष है, तो आप इससे छुटकारा भी पा सकते हैं।छोटी गलतफहमियों के कारण जो परिवार के सदस्यो के साथ मन मुटाव था वह दूर हो जाएंगा और पारिवारिक रिश्ते मधुर बनेंगे।जिन छात्रों पीएच.डी. कर रहे है या उनके समकक्ष अभ्यास कर रहे है उन छात्रों के लिए ये समय बहुत अच्छा समय है।

वृश्चिक राशि

वृश्चिक (न, य) : वृश्चिक राशी के जातको के लिए देखा जाए तो गुरु मंगल की राशी से गोचर में भ्रमण कर रहा है। जातको को क्या फल अर्जित करेगा ।

यानी बृहस्पति वर्तमान में वृश्चिक राशि में है। अपनी पत्नी की खुशी मिलेंगी मन मेल अच्छा रहेगा, बेटे का प्रेम आपको मिलेंगा, स्वास्थ्य से सुखकारी अछी रहेगी की कुल मिलाकर अच्छा है।

छात्र वर्ग के लिए यह बहुत अच्छा समय है। जो विध्यार्थी वर्ग है उनके लिए आगे बढने का अवसर प्राप्त होगा व्यापार के लिए नए-नए विचार से अपने व्यवसाय में बढ़ोत्तरी होगी। लाभ अच्छे रहेंगे। नॉकर चाकर का सुख प्राप्त होगा राज्य की तरफ से आदर और मन सम्मान मिलेंगा जो जातक नोकरी कर रहे है। उन जातको के लिए अच्छा है।आध्यात्मिक क्षेत्र में आपका प्रवेश होगा धार्मिक कार्यो में आपकी रुचि बढ़ेगी भूमि सबंधित कोई प्रश्न होगा तो आपको सफलता मिलेंगी और स्थावर मिल्कत जो होगी उनसे आपको लाभ भी मिलेंगे।

धन राशि

धन (भ, ध फ, ढ) : राशि चक्र के आधार पर, बृहस्पति आपकी राशि से 12 वें स्थान पर भ्रमण करता है।गुरु धन राशि के जातको को क्या फल अर्जित करेगा ।

इस बृहस्पति ग्रह की दृष्टि छठे रोग और शत्रु स्थान पर है।

ताकि दुश्मनों से दुश्मनी बढ़ जाएगी और पारिवारिक जीवन में छोटे-मोटे झगड़े होते रहेंगे। शत्रु से झगड़ा भी हो सकता है, अप्रत्याशित विफलता दुख का कारण बन सकती है।जब स्वास्थ्य की बात आती है, तो आपको कफ ओर शर्दी शरीर में हो सकती है, अप्रत्याशित लागत। आय का एक स्रोत है लेकिन लागत अधिक है। कोर्ट-कचेरी से सावधान रहना ज़रूरी है।इस दौरान यात्रा के योग भी बनेंगे, कोई-कोई कार्य में छोटी-छोटी समस्याओं का सामना करना भी पड़ता है। मन पर चिंताएँ अधिक रहती हैं।राज्य या सरकारी कार्यों से भय उत्पन्न होता है, इसलिए आपके लिए यही अच्छा है कि आप हर काम सावधानी से करें।

मकर राशि

मकर (ख, ज) : मकर राशि वालों के लिए यह समय बहुत अच्छा है । गुरु मकर राशि के जातको को क्या फल अर्जित करेगा ।

शरीर का सुख अच्छा राहेंगा। धन सुख अच्छा प्राप्त होता है।

स्वास्थ्य सम्बंधी चिंताएँ दूर होगी। अच्छा स्वास्थ्य भी होगा, समाज में, कार्यक्षेत्र में आपको प्रतिष्ठा मिलेंगी, नौकरी की उपलब्धि भी होगी। पत्नी का सुख आपके लिए अच्छा देखा जाता है, पुत्र का सुख भी आपको अच्छा मिलेंगा।अपने दोस्तों से अच्छा लाभ प्राप्त हो सकता है, वाहन के लिए सुंदर योग बन रहा है। यदि कुंडली के ग्रह प्रमुख हैं, तो चार पहिया वाहन इसका भी योग बन जाता है।छात्र वर्ग को इसके लिए उत्कृष्ट अवसर मिलते हैं। आध्यात्मिक क्षेत्र में रुचि बढ़ती है, दिमाग से चलने वाले कार्य सफल होते हैं।संतान का सुख प्राप्त होता है, संतान के अच्छे काम का भी आनंद लिया जा सकता है।

कुंभ राशि

कुंभ (ग, श, स, ष) : वृश्चिक राशि का बृहस्पति, कुंभ राशि के जातकों के लिए दसवें स्थान से होकर भ्रमण करता है। जातको को क्या फल अर्जित करेगा ।

आप कलाकार हैं, कोई नेता हे, कोई अच्छे पद पर हो, यह उन सभी लोगों के लिए बहुत अच्छा समय है, आप गांव के सरपंच हैं, आप कोई नोकरी पर काम कर रहे हैं।

आपकी सभी लोग प्रशंसा करेगे, राज्य या अपने अधिकार क्षेत्र से अपनी प्रसिद्धि और प्रचार, प्रसार करें और अगर छात्र वर्ग उन सभी के लिए इस राशि से जो सबंधित है, तो आपको इनाम भी मिलता है।व्यवसाय में लाभ के योग हैं। आकस्मिक धन लाभ के भी योग है और मित्रो का सुख प्राप्त होता है आगामी त्योहारों में भाग लेकर पुरस्कार प्राप्त कर सकते हैं।इसके अलावा आने वाले त्योहारों पर बड़ा खर्च करें या धार्मिक गतिविधियों में योगदान दें।

मीन राशि

मीन (द, च, झ, थ) : राशि चक्र के जातको के लिए गुरु कुछ अच्छा लेकर आ रहा है। जातको को क्या फल अर्जित करेगा ।

भाग्य से सम्बंधित प्रश्नों को हल किया जा सकता है। इस समय भाग्योदय के लिए भी बहुत अच्छा है। कारोबारियों को रोजगार में फायदा मिलेंगा।

भाई द्वारा, बहनों द्वारा, साहसिक कार्य द्वारा आमदानी होगी। छोटे-बड़े प्रकार के सुख की प्राप्ति होगी, वाहन योग बनेंगा। धर्म कार्यों में रुचि बनेंगी, धार्मिक कार्य भी हो सकता है। आने वाले त्योहारों खुशी के साथ पूरा करेंगे। राज्य की ओर से सुख प्राप्त होता है।यह समय उच्च अधिकारियों के साथ-साथ विधायकों या सांसदों के लिए अधिक अनुकूल है। शिक्षकों और अध्ययन के क्षेत्र में शामिल शिक्षकों के लिए भी बहुत अच्छा समय है। पारिवारिक सुख अच्छी तरह से देखा जाता है। कुल मिलाकर गुरु आपके लिए शुभ है।

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें