वृश्चिक राशीफल 2020 हिंदी | वृश्चिक राशि वार्षिक राशिफल

जानिए हिंदी में अपना वार्षिक राशिफल वृश्चिक राशी

0
68

वृश्चिक राशि भविष्यफल | Vrishchik Rashifal 2020 Hindi

वृश्चिक राशीफल 2020 धन, संपति और व्यापार.

धन संपत्ति और व्यापार के बारे में देखा जाए तो, कार्यक्षेत्र में व्यापार में प्रबल सफलता मिलने के
आसार दिखाई देते हैं.

वृश्चिक राशि के स्वामी मंगल है.
वर्ष कुंडली में स्वराशि में विराजमान है, मंगल का स्वराशि का होना रुचक महायोग बन रहा है.

यह योग से यश,पद,धन में वृद्धि होगी. व्यापार में आपकी मेहनत रंग लायेगी. व्यापार के क्षेत्र
में और बाजार में प्रतिष्ठा बढ़ेगी, आपकी कार्यक्षमता के अनुसार व्यापार में नए आर्डर मिलेंगे
और एडवांस में डिपोजिट भी मिलेगी.

वडिलोपार्जित आपकी पुरानी पेढ़ी है तो, इसमें कुछ नया करेंगे.

इसके चलते हुए समाज में प्रतिष्ठा बढ़ेगी. और साथ में आपके शत्रु उपेक्षा भी करेंगे. जन्म के
ग्रह आपके बलवान है तो, आपकी सफलता, प्रगति इसको कोई रोक नहीं सकता है.
भागीदारी में आपका व्यापार होने से पैसो कि लेवड-देवड में विवाद या मन दुख हो सकता है.
व्यापार में उधारी नहीं रखनी चाहिए, नहीं तो आपको व्यापार के संबंधित जो उधार माल लिया है,
उसका पैसा नहीं मिलेगा.
इसीलिए उधारी ना करें.
वर्ष की शुरुआत में 24 जनवरी के बाद शनि का परिवर्तन हो रहा है.

यह शनि आपके पराक्रम और उन्नति में वृद्धि योग बनाएगा.
यह स्थान छोटे भाई का है, इसलिए छोटे भाई-बहन के भविष्य के बारे में चिंता रहेगी. नए काम
करने का एक अवसर प्राप्त होगा. व्यापार और राजकीय क्षेत्र में एक नई ऊर्जा महसूस करोगे,
एक नया संचार होगा.
थोड़ी चिंता वाली बात थोड़े समय के लिए है. मई माह में शनि का वक्री होना परेशानी का कारण
बन सकता है.

अचानक बदलाव और व्यापार में अचानक रुकावट आ सकती है.
मान-सम्मान, प्रतिष्ठा मैं कुछ कम हो रहा है, ऐसा दिखाई देगा और थोड़े नकारात्मक परिणाम
मिल सकते हैं.
परंतु 30 जून से सब काम आगे बढ़ेंगे यह संकेत आपके लिए दिखाई देते हैं.

वृश्चिक राशीफल 2020 प्रेम और वैवाहिक जीवन

प्रेम और वैवाहिक जीवन  वर्ष 2020 में देखा जाए तो प्रेम विवाह के बारे में अगर आप प्रेम विवाह करना सोच रहे हो तो, यह हो सकता है. रिलेशनशिप को लेकर आप उत्साहित रहोगे.

आपकी एक प्रेमवाली जिंदगी बहुत अच्छी होगी, इससे आपको आगे जिंदगी जीने की राह मिलेगी.

जो जातक लग्न उत्सुक है, उनके लिए विवाह का योग बनेगा अथवा संबंधी द्वारा आपको विवाह के मामले में पॉजिटिव रिस्पोन्स मिलेगा.

प्यार के मामले में भी पॉजिटिव रिस्पोन्स मिलेगा.

लेकिन कहते है की प्यार करना आसान नहीं होता, उसे निभाना तो और भी ज्यादा चुनौतीपूर्ण होता है.

फिर भी प्यार तो प्यार होता है. ऐसा है कि प्यार एक बड़ा दरिया है,

वर्ष २०२० में वृश्चिक राशि के जातको के लिए वैवाहिक जीवन मधुर रहेगा.

पति-पत्नी दोनों साथ मिलकर सहयोग से भरपूर सांसारिक सुखों का लाभ उठाएंगे.

आपकी दांपत्य जीवन की पर्सनल लाइफ में मई माह में नकारात्मकता देखी जा सकती है.

सितंबर में गुरु मार्गी होने से और शनि भी मार्गी होने से दांपत्य जीवन में पॉजिटिविटी देखी जाएगी.

23 सितंबर से राहु सप्तम भाव में आ जाएगा तो इस समय के दौरान दांपत्य जीवन में छोटी-मोटी परेशानी आ सकती है,

और यह आपके लिए थोड़ा चिंतावाला समय है. जिन लोगों का नया-नया रिश्ता जुड़ा है उन सभी को सतर्क रहने की जरूरत है. क्योंकि आपके यह रिश्ते में बड़ा संघर्ष आने की संभावना देखी जाती है.

ज्योतिष के माध्यम से देखा जाए तो आपको सलाह यही है कि, आपके रिश्ते कायम बनाये रखे.

जीवनसाथी ऊपर विश्वास बनाए रखें,

आपका दांपत्य जीवन सुखमय पसार होगा. अगर आप संतान के बारे में सोच रहे हो तो, संतान का योग भी बनेगा.

स्वास्थ्य में देखा जाये तो वर्ष 2020 आपके  के लिए ठीक है.

नियमित रूप से प्राणायाम व्यायाम करोगे तो स्वास्थ्य अच्छा रहेगा.

अष्टम भाव में राहु प्रतिकूल असर से कहीं से गिर जाने का योग, फैक्चर, पग में पीड़ा, कमर में दर्द हो सकता है

जो जातक व्यसन का अधिक सेवन करते हैं, उन जातकों के लिए पेट संबंधित पीड़ा, लीवर संबंधित पीड़ा हो सकती है.

इसीलिए व्यसन से आप बचे यह एक उपाय आपके लिए है.

अस्पताल में ज्यादा खर्च होने के आसार दिखाई देते हैं.

आपके लिए नहीं तो परिवार के लिए स्वास्थ्य संबंधित खर्च होगा.

आपकी बीमारी में आपको बी.पी., डायबिटीज, थाइरोइड विगेरे में से पुराना रोग है तो सावधान रहना जरूरी है.

सावधानी में नियमित रूप औषध का सेवन करना चाहिए और चिकित्सक के पास समय पर जाना होगा.  

क्यूकि इस बीमारी के चलते हुए आपको आपकी नौकरी में, व्यापार में,

कहीं ना कहीं रुकावट आएगी और इस रुकावट के चलते हुए तनाव, चिंता बढ़ेगी. जो वडीलवर्ग है, उनको लंबी यात्रा करनी चाहिए. खाने-पीने में परहेज रखना जरूरी है. दिनचर्या आपकी राबेता मुज़ब करोगे तो इस  बीमारियों से बचोगे. स्वास्थ्य सुधार के लिए नित्य योग, व्यायाम, प्राणायाम करें.

वृश्चिक राशीफल शिक्षा, नौकरी, यात्रा और आर्थिक लाभ वर्ष 2020

इस वर्ष २०२० में विद्यार्थी वर्ग के लिए कारकिर्दी में पूर्णता देखी जाएगी. और

अभ्यास में अच्छी सफलता इस वर्ष देखी जाएगी यह ग्रह संकेत है.

वर्षारंभ से आपने अभ्यास में जो मेहनत की है, वह आपके लिए सफलता के परिणाम  लाएगी और इसके चलते हुए विद्या अभ्यास में श्रेष्ठ परिणाम प्राप्त होगा.

प्रवेश के लिए इच्छित विद्या शाखा में प्रवेश मिल  जाएगा.

जिस विद्यार्थीओ ने विद्या अभ्यास छोड़ दिया है. तो विद्या अभ्यास चालू करने के लिए सोचेंगे.  

14 जून से 16 जुलाई तक विद्यार्थी वर्ग को अपने सेहत का ख्याल रखना है,

और वाहन चलाने में भी सावधानी रखनी है.

मित्रवर्ग के कारण थोड़ी चिंता बनी रहेगी.

13 फरवरी 2020 से 14 मार्च 2020 और  4 मई 2020 से 18 जून 2020 के दरमियान जोखमी  निर्णय ना करें.

 मित्र से कम संबंध रखें, यह आपके लिए उचित देखा जाता है.

वैसे अभ्यास में समय अच्छा इस वर्ष देखा जाता है.

नौकरी के लिए वर्ष 2020 में देखा जाए तो स्थल और स्थान दोनों में से परिवर्तन होगा. स्थल यानी बदली, स्थान यानी प्रमोशन. आपकी बदली हो सकती है अथवा आपका प्रमोशन हो सकता है.

नौकरी में आपको यश, प्रतिष्ठा, मान- सम्मान मिलेगा, आवक में वृद्धि होगी.

राशिफल 2020 के अनुसार देखा जाए तो जो लोग नौकरी से निवृत होगे.

उनके लिए नौकरी मील जायेगी. साथ में   स्वास्थ्य के सबंधित खर्च होगा, ऐसा ग्रह संकेत दिखाई देता है.  

जो जातक नौकरी करने के लिए इच्छुक है, उनको थोड़ी मेहनतवाली और श्रमवाली नौकरी मिलेगी, वेतन थोडा कम मिलेगा.

परंतु यह नौकरी आप करोगे तो आपके लिए भविष्य में अच्छे चांस मिलेंगे.

अगर आप नौकरी में मिलनेवाले चांस छोड़ देंगे तो आपके हाथ से यह चांस निकल जाएगा और फिर से चांस मिलने में टाइम लगेगा.

थोड़ी सावधानी यह रखनी है कि, सरकारी क्षेत्र में आपकी जॉब हो तो लांच रिश्वत से बचना होगा.

क्यूकि लांच रिश्वत के कारण नौकरी में दिक्कत आ सकती है अथवा सस्पेंड भी हो सकते हो. इसके चलते हुए आपको कानूनी कार्यवाही का सामना करना पड़ेगा, अगर आप संस्था में, कंपनी में, सरकारी क्षेत्र में और नौकरी का कोई भी क्षेत्र हो पर इन सभी में प्रामाणिकता और सत्यनिष्ठा से आप काम करोगे तो, अवश्य आपको लाभ भी मिलेगा. साथ में यश, कीर्ति, मान, प्रतिष्ठा भी मिलेगी,

वर्ष २०२० की शुरुआत में यात्रा के योग बनेंगे. द्वादश स्थान में मंगल, सूर्य और बुध वक्री होकर तुला राशि में बैठे है, यह तुला राशि चर राशि है चर राशि को चलते हुए   विदेश मुसाफ़री योग बनने के आसार है.

19 अप्रैल से लेकर 31 अगस्त तक विदेश प्रवास का योग बन सकता है. कोई-कोई जातकों को बच्चों को मिलने के लिए विदेश  जाने का योग बनेगा.

प्रवास का प्रवास और धार्मिक यात्रा की धार्मिक यात्रा हो सकती है,

शादी करने के बाद हनीमून के लिए विदेश प्रवास योग बन सकता है.

इस तरह यात्रा का योग बनेगा. इसके बाद भी योग तो बनता है.

विद्यार्थी वर्ग के लिए देखा जाए तो विद्या अभ्यास के लिए विदेश के योग बनेंगे.

ऊपर जो हमने समय बताया है, इस समय के दौरान आपका विदेश योग बनेगा. वडीलवर्ग के लिए चारधाम की यात्रा और भारत के अन्य प्रांत की यात्रा का योग बन रहा है.

वर्ष २०२० में देखा जाए तो आर्थिक स्थिति मजबूत रहेगी. तारीख 8 अप्रैल 2020 के बाद साहस के द्वारा बड़े अच्छे लाभ व्यापार क्षेत्र में मिलेंगे.

नई डील भी होगी, बड़े भाई के द्वारा आपको लाभ मिलेगा.

बड़े भाई का साथ और सहकार दोनों मिलेंगे. शनि आपके लिए आर्थिक सुख बहुत लेकर आएगा.

आपको आर्थिक लाभ नहीं इससे भी ज्यादा बड़े लाभ आपको मिलेंगे.

भाग्यस्थान आपका प्रबल है, इसके चलते हुए आपको जो लाभ आपने सोचा नहीं होगा, वह लाभ आपको मिलेगा.

आप राजकीय क्षेत्र में है तो, आपकी प्रशंसा बहुत होगी.

आप जो भी काम करोगे वह काम प्रजा के हित में होगा, प्रजा भी आपको बहुत चाहेगी. वतन के लिए आप कुछ भी कर सकते हो, अगर आप आर्मी क्षेत्र में हो तो इस वर्ष के दौरान नई कारकिर्दी आप बनाएंगे.

वह कारकिर्दी प्रशंसनीय होगी.

कुल मिलाकर देखा जाए तो, आर्थिक लाभ बहुत बहुत अच्छे मिलनेवाले हैं.

वर्ष के दौरान समय-समय पर कुछ अच्छा होता रहेगा.

उपाय:-  

विष्णु भगवान का पाठ विष्णु सहस्त्र नामावली पीपल के पेड़ के नीचे बैठकर करने से आपको बहुत लाभ होगा.

हर गुरुवार के दिन या बुधवार के दिन या हररोज पीपल के पेड़ के नीचे जाकर विष्णु सहस्त्र का पाठ करें.

अगर नहीं हो रहा है तो, पीपल का पान घर पर लाकर सामने रखकर विष्णु सहस्त्र का पाठ करें. यह पाठ आपके लिए फलदाई बनेगा.

आपसे यह भी ना हो सके तो ब्राह्मण से करवाएं.

राहू इस वर्ष के दौरान अशुभ फल दे रहा है  है, राहु को शांत करने के लिए विष्णु सहस्त्र का पाठ बताया है, यह आप कर सकते हो.

राहु का मंत्र जाप की संख्या ७२००० है,  बीज मंत्र के द्वारा आप भी मंत्र जाप कर सकते हो.

मंत्र : ॐ भ्रां भ्रीं भ्रौं सः रीम राहवे नमः

 

पंडितजी के साथ करवाएं राहु मंत्र का जाप खुद ना करें तो अच्छा है.

कोई जवाब दें

कृपया अपनी टिप्पणी दर्ज करें!
कृपया अपना नाम यहाँ दर्ज करें